2018.11.22, Thursday
«Left Right»
  • Mesolithic Age in India

    The transition from the Palaeolithic period to Mesolithic period is marked by transition from Pleistocene period to ...

  • Palaeolithic Age Prehistory of India

    Prehistoric period belongs to the time before the emergence of writing. It is believed that man learnt writing only ...

  • Introduction to Prehistory

    The past of humankind has been divided into two broad categories viz. Prehistoric and historic. Prehistoric period ...

  • Chalcolithic Age in India

    Chalcolithic is also known as Eneolithic period which saw the use of the metals among which the Copper was first. ...

«Left Right»

MOST POPULAR

2018.11.22, Thursday

The difference between names of Harappan Civilization and Indus Valley Civilization

Both the names are coterminous. Harappa is an archaeological site in Punjab, Pakistan and this was the first site where the remains of the civilization were first found. That is why it is called Harappan Civilization.

Since it started in the river valley of the Indus River and largest concentration of the settlements has been found along the course of this river, it was called Indus Valley Civilization.

 

 

 

Source:gktoday

पुरापाषाण, मध्यपाषाण और नवपाषाण काल के विषय में स्मरणीय तथ्य

Contents1 पुरापाषाण (Paleolithic Age)1.1 Paleolithic Age Facts2 मध्यपाषाण युग (Mesolithic Age)2.1 Mesolithic Age Facts3 नवपाषाण काल (Neolithic Age)3.1 Neolithic Age Facts आज हम आपको पुरापाषाण (Paleolithic Age), मध्यपाषाण (Mesolithic Age) और ...

सिन्धु घाटी सभ्यता और वैदिक सभ्यता के मध्य अंतर

आज हम सिन्धु घाटी सभ्यता (Indus Valley Civilization) और वैदिक संस्कृति (Vedic period culture) के मध्य अंतर स्थापित करने की  कोशिश करेंगे. सिन्धु सभ्यता और ऋग्वैदिक सभ्यता के मध्य अंतर  ऋग्वैदिक सभ्यता ग्रामीण संस्कृति लगती है जबकि सिन्धु सभ्यता ...

जैन तीर्थंकरों के बारे में कुछ तथ्य

Contents1 List of Jain Tirthankara1.1 ऋषनाथ या आदिनाथ1.2 अजितनाथ1.3 संभवनाथ1.4 अभिनंदन1.5 सुमतिनाथ1.6 पद्मप्रभ1.7 सुपार्श्वनाथ1.8 चन्द्रप्रभ1.9 सुविधिनाथ (या पुषपदंत)1.10 शीतलनाथ1.11 श्रेयांशनाथ1.12 वासुपूज्य 1.13 विमलनाथ1.14 अनंतनाथ 1.15 ...

अशोक के विषय में स्मरणीय तथ्य : Important Facts about Ashoka

आज हम अशोक के विषय में महत्त्वपूर्ण तथ्यों को आपके सामने रखने वाले हैं जो प्वाइंट वाइज लिखे गए हैं. ये फैक्ट्स आपके विभिन्न परीक्षाओं में बहुत काम आयेंगे. राजा अशोक के बारे में जानकारियां prelims परीक्षा को ध्यान में रखकर आपके साथ साझा की जा रही ...

प्रमुख भारतीय बंदरगाह : Important Ports in Indian History

अति प्राचीन काल में ही मनुष्य ने नाव बनाना सीख लिया था और इसका प्रयोग कर समुद्री यात्रा करना आरम्भ कर दिया था. इसकी यात्राओं का उद्देश्य मुख्यतः व्यापार ही होता था.  ये नावें जिन तटों से निकलती थीं उन तटों की आकृति ऐसी थी कि उन्हें आसानी से ...

हड़प्पा सभ्यता : एक संक्षिप्त अवलोकन

Contents1 हड़प्पा सभ्यता का नामकरण2 काल-निर्धारण3 सैन्धव समाज3.1 पूजा-पाठ3.2 मतांधता से मुक्त समाज3.3 शांतिप्रिय4 वैज्ञानिक मानसिकता5 भौगोलिक विस्तार हड़प्पा लिपि अभी तक पढ़ी नहीं जा सकी है. इसलिए मात्र पुरातात्त्विक अवशेषों के आधार पर ही हड़प्पा ...

पुराण – 18 Purana का संक्षिप्त विवरण

Contents1 रचनाकाल2 पुराण : संख्या2.1 महापुराण2.1.1 सात्विक महापुराण2.1.2 राजस पुराण2.1.3 तामस पुराण2.2 18 उपपुराण3 महत्त्वपूर्ण पुराणों का संक्षिप्त विवरण3.1 विष्णु पुराण3.2 श्रीमद् भागवत् पुराण3.3 नारद पुराण3.4 गरुड़ पुराण3.5 पद्म पुराण3.6 वराह ...

हरिहर और बुक्का के बारे में जानें, संगम राजवंश

हरिहर ने अपने भाई बुक्का के साथ विजयनगर राज्य की नींव डालने के बाद सबसे पहले गुट्टी तथा उसके आसपास के क्षेत्रों को अपनी सत्ता स्वीकार करने के लिए विवश किया. उन्होंने तुंगभद्र नदी के दक्षिणी तट पर स्थित अणेगोंडी के आमने-सामने दो नगर बसाए – ...

प्राचीन भारत के ग्रन्थ और उनके लेखक

आज हम आपके सामने प्राचीन भारत (Ancient India) में रचित संस्कृत, पाली, प्राकृत व अन्य भाषाओं के ग्रन्थ और उनके लेखकों (writers) के नाम बताने वाले हैं. अक्सर परीक्षा में MCQ के रूप में या match the following के रूप में books और writers (written ...

धोलावीरा – सिन्धु सभ्यता का एक अत्यंत महत्त्वपूर्ण स्थल

सिन्धु घाटी सभ्यता के सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण स्थल धोलावीरा (dholavira) से अब तक उम्मीद से अधिक संख्या में अवशेष मिले हैं. यह स्थल गुरात के कच्छ जिले के मचाऊ तालुका में मासर एवं मानहर नदियों के मध्य अवस्थित है. यह सिन्धु सभ्यता का एक प्राचीन और ...

मौर्यकालीन अधिकारी और उनके कार्य

मौर्यकालीन प्रशासनिक व्यवस्था (Mauryan Administrative System) की जानकारी हमें मुख्य रूप से कौटिल्य के अर्थशास्त्र और आंशिक रूप से अशोक के शासनादेशों (शिलालेख, स्तम्भ लेख आदि) से मिलती है. यूनानी विवरणों में भी कुछ मौर्यकालीन अधिकारीयों (mauryan ...

चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य – सैनिक उपलब्धियाँ तथा तत्कालीन भारत

Contents1 नाम और परिवार2 सिंहासन पर बैठने के समय साम्राज्य की अवस्था3 वैवाहिक संबंधों का महत्त्व4 शक विजय4.1 शक विजय के परिणाम5 अन्य विजयें6 चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य का शासन प्रबन्ध7 सिक्के 8 फाहियान का वर्णन9 भारत की धार्मिक दशा10 सामाजिक ...

विदेशी यात्री

Contents1 List of foreign travellers who came in India in Hindi2 मैगस्थनीज3 डायमेकस4 फाह्यान5 ह्वेनसांग6 इत्सिंग 7 अलबरुनी8 मार्को पोलो9 चाऊ जू कुआ10 निकोलो कोंटी11 अब्दुररज्जाक12 बारबोसा13 डोमिनगोस पेरेज14 विलियम हॉकिन्स15 विलियम फिंच16 थॉमस ...

शुंग वंश के बारे में जानें – 185 ई.पू. से 75 ई.पू.

Contents1 शुंग वंश – राज्य विस्तार और शासन2 विदर्भ से युद्ध3 यूनानियों का आक्रमण4 पुष्यमित्र की धार्मिक नीति5 पुष्यमित्र के उत्तराधिकारी6 काण्व वंश अंतिम मौर्य राजा बृहद्रथ को उसी के ब्राहमण सेनापति पुष्यमित्र ने मारकर शुंग वंश (Shunga / ...

बौद्ध संगीतियाँ (प्रथम, द्वितीय, तृतीय और चतुर्थ)

Contents1 बौद्ध संगीतियों के प्रमुख कार्य1.1 प्रथम संगीति1.2 द्वितीय संगीति1.3 तृतीय संगीति 1.4 चतुर्थ संगीति आज हम बौद्ध प्रथम, द्वितीय, तृतीय और चतुर्थ बौद्ध संगीतियों के विषय में पढेंगे और ये जानेंगे कि उन संगीतियों (Buddhist Councils) के समय ...

कौटिल्य:- सप्तांग सिद्धांत, मंडल सिद्धांत और षाड्गुण्य नीति

Contents1 राज्य की उत्पत्ति2 सप्तांग सिद्धांत2.1 1. राजा या स्वामी2.2 2. अमात्य या मंत्री2.3 3. जनपद2.4 4. दुर्ग2.5 5) कोष2.6 6) दंड या सेना2.7 7) मित्र3 मंडल सिद्धांत4 षाड्गुण्य नीति कौटिल्य को भारतीय राजनीतिक विचारों का जनक माना जाता है. उनका ...

चोल साम्राज्य और इस वंश के शासक

आज हम चोल साम्राज्य के विषय में पढेंगे. जानेंगे इस वंश का उदय और पतन कैसे हुआ, इस वंश के राजा कौन थे. इस पोस्ट को आगे भी update किया जाएगा जिसमें हम Chola’s government (केन्द्रीय शासन), न्याय प्रणाली, आय-व्यय के साधन, कला और संस्कृति के ...

बौद्ध साहित्य – जातक, पिटक, निकाय आदि शब्दावली

Contents1 जातक2 पिटक3 बुद्धचरितम्4 महावंश और दीपवंश महाकाव्य5 मिलिंद पन्हो6 दिव्यावदान7 मंजूश्रीमलकल्प 8 अन्गुत्तर निकाय9 ललित विस्तार और वैपुल्य सूत्र प्राचीन भारतीय इतिहास के स्रोत के रूप में बौद्ध साहित्य का विशेष महत्त्व है. इसमें जातक, पिटक ...

[Prelims Part 1] प्राचीन भारतीय इतिहास के स्मरणीय तथ्य

आपके साथ आज प्राचीन भारतीय इतिहास के स्मरणीय तथ्य share करने जा रहा हूँ जो आपके आगामी Civil Services Prelims परीक्षा में काम आयेंगे. Ancient History Valuable Facts प्राचीन भारत का इतिहास जानने के लिए “पुराण” एक महत्त्वपूर्ण स्रोत है. ...

पल्लव कौन थे? पल्लव वंश के शासक और उनकी उपलब्धियाँ

Contents1 पल्लव शासक और उनकी उपलब्धियाँ1.1 सिंहविष्णु (575-600 ई.)1.2 महेंद्र वर्मन (600-630 ई.)1.3 नरसिंह वर्मन प्रथम (630-668 ई.)1.4 महेंद्र वर्मन द्वितीय (668-670 ई.)1.5 परमेश्वर वर्मन प्रथम (670-680 ई.)1.6 नरसिंह वर्मन द्वितीय (680 ई. -720 ...

अशोक के शासनकाल का घटनाक्रम

इस पोस्ट के जरिये अशोक के राज्यारोहण से लेकर उसके शासनकाल के वर्षों के घटनाओं का उल्लेख करने का प्रयास किया गया है. साथ में अशोक के शिलालेखों का सन्दर्भ भी दिया गया है. Timeline of Ashoka’s Regime अशोक का राज्यारोहण पिता बिंदुसार के निधन ...